Thursday, August 21, 2014

Astrology of Alzheimer Disease

What is Alzheimer Disease?
  • Alzheimer is a progressive and degenerative brain disease which causes problems with memory, thinking and behaviours.
  • Amyloidal plaques and neurofibrillary tangles are two types of proteins responsible for destroying brain nerve cells causing Alzheimer disease.
  • Other contributing major factors for this disease are hereditary, old age, brain injury, Down syndrome, smoking, depression, elevated homocystein level, heart problems.
The symptoms of Alzheimer disease:

Short term memory loss, inability to perform routine work, power of judgment and reasoning deteriorate, change in mood, behaviour and communication patterns, impaired language skills, emotional outbursts and in final stage the individual's ability to recognize faces and to communicate is completely lost along with the ability to control bowel and bladder control.

Astrological significator for Alzheimer disease:
Ascendant: overall strength/weakness of health, head and brain
6th house: house of sickness, lifestyle
8th house: life expectancy, incurable diseases, traumas, low and lingering diseases, cause of death
12th house: hospitalization, sleep, mental disorders
Mercury: nervous systems, represents the principle sponsoring mental function, thinking, writing, hearing, all forms of communication
Saturn: chronic diseases, tumours, desiccation, shrinking, under-function, retardation, and collapse old age.
Mars: muscular system, inflammation of arteries leading to the brain, accidents, vitality, fevers.
Jupiter: circulatory system.
Uranus: indicates body electricity

Different combination's for Alzheimer disease:
  • Mercury is retrograded /inauspiciously placed/set/debilitated/ hammed between malefic/aspected by malefic Saturn/Uranus indicates nervous disorders.
  • Mercury and Jupiter placed in 6th/8th/12th houses and aspected by malefic.
  • Mercury aspected/conjunct/associated with Saturn/Uranus indicates brain problems.
  • Mercury placed in 3rd house and aspected by Saturn/Uranus.
  • Sign Gemini and Mercury severely afflicted and related to 6th/8th/12th sign may cause Alzheimer disease.
  • Mercury and Moon are inharmonious aspect or in 12th house and aspected by Pluto.
  • 3rd house and Mercury are afflicted by Neptune.
  • Mercury/Saturn related to trine/6th/8th/12th house and aspected by Uranus
Moon:
  • Moon aspected/associated with Saturn/Ketu indicates mental disorders.
  • Afflicted 4th house and Moon indicates depression and mental worries.
  • Moon in 6th/8th/12th house indicated mental disorders.
  • Heavily tenanted 12th House especially with a Luminary there could suggest mental illness and institutions
Saturn/Rahu/Uranus:
  • Saturn and Rahu association/conjunction/aspect gives delusion and mental worries and lingering diseases.
  • Saturn associated with trine/4th house, aspected by malefic indicates brain problems.
  • Rahu placed in angle/6th/8th/12th house, resulting in hypertension.
  • Mars, Mercury, Neptune conj in Cancer/4th house.
BY
GEETA JHA
INDIA

Wednesday, August 20, 2014

Astrology of Boss-Hood

A boss is an individual who supervise a number of employees and capable of making decisions or exercising authority.
Sometime the term boss is used for any higher level employee in a company, who has specific responsibilities and capabilities and can monitor, guide and judge your abilities, qualifications and experiences.

You have to work with your boss every day at the office, working well with him and being compatible with him makes life easier for you and your boss.
A smooth, productive and harmonious relation between you and your boss is beneficial for Company and its employees.

Astrological Factors influencing boss-hood:

Ascendant: general physical and mental capabilities of the native
10th lord/house: indicates profession and occupation, nature of boss.
Moon: sympathy and moods
Mars: aggressiveness
Saturn: selfishness, avoidance for outward activities.
Jupiter: self sufficiency and self indulgence

Different types of boss-hood:

Harmonious compatibility
  • 10th house falling in a benefice sign signifies  good compatible boss especially if the sign is Cancer, Sagittarius and  Pisces.
  • A benefice planet placed/aspecting 10th house,  indicates smooth and harmonious relation with the boss.
  • Friendly relation between lords of 10th and  ascendant gives an easy compatibility with the boss.
  • 10th house sign falling in Taurus/Libra indicates an artistic boss, who is easily pleased by his own praises.
  • The 10th sign falling in Gemini/Virgo sign,  indicates an intelligent boss but lacking the quality of courage in facing  risks and dangers.
  • Strong Sun and Jupiter in a horoscope indicates guidance and monitoring by a capable boss.
  • Sun as the lord of 10th house influenced by benefices indicates an honest boss and who is upright in dealings and possesses a good moral standard.
Disharmonious compatibility
  • 10th house falling in a cruel sign, indicates aggressive, dominating and repulsive natured boss especially if the sign falls in Aries, Leo, Scorpio and Capricorn.
  • A malefic planet placed/aspecting 10th house indicates disharmonies relation with the boss.
  • Lord of 10th house placed in an inauspicious house/aspected and associated with malefic, indicates disharmony with the boss.
  • Mars being the lord of 10th house is in heavy affliction indicates excessive ambition, authority, arrogance and aggressiveness of the boss.
  • Saturn being the lord of 10th house in heavy affliction indicates interruptive and selfish nature of the boss.
  • Moon as the lord of 10th being in a heavy affliction indicates constant mood swings of the boss resulting in luctuating compatibility.
BY
GEETA JHA 
INDIA

Monday, August 11, 2014

Indication of Disease Cancer in Astrology

Cancer can be defined as any uncontrolled growth of body cells, which has destroyed the adjutant tissues. If not treated it (cancer) may also spread to other parts of body through blood and lymph. Cancer may affects people at all ages, but the risk increases with age. Cancer amounts to about 13% of all human deaths. Up till few years ago, it was incurable.


Factors Responsible For Cancer
  1.  Ascendant its strength
  2.  The Sun- its location/strength [over all vitality of a person]]
  3.  Sign Virgo [sign representing sickness]
  4.  6th house /lord [house of disease]
  5.  8th house/lord [longevity and death]
  6.  12th house/lord [hospitalization and heavy expenditure on a disease]
  7.  11th house/lord [cure from disease]
  8.  Saturn [long term diseases and slow and lingering death]
  9.  Rahu [dragon head denotes incurable diseases]
Biopsy examination is the best one to derive the clue of cancer. Astrologically indication of cancer disease is noted with care on seeing the natal horoscope.

Different Combination for Cancer Disease
  1.  Any house afflicted by Saturn and Rahu may give cancer to that part of body represented by that house. For e.g. aspect of Saturn and Rahu on 2nd house, the native may be affected by throat cancer.
  2. 6th/8th/12th lord's aspect by Saturn and Rahu give serious diseases like cancer in that part of body in which the lords are posited. Like 6th lord posited in 5th house aspect by Saturn and Rahu may give stomach cancer.
  3.  Lord of any house posited in 6th/8th/12th house and aspect by Saturn and Rahu may badly afflict that part of body represented by that house. For e.g. if 4th lord is posited in 8th house, and aspect by Saturn and Rahu, indicate serious problem like cancer in the chest region.
  4.  Lords of ascendant and 6th join in a house and aspect by Saturn and Rahu may give cancer to that part of body. Like if lords of ascendant/6th join in 8th house aspect by Saturn and Rahu may give cancer to reproductive parts of the body.
  5.  If above any combination is also influenced by Mars then the surgery of that part of the body is indicated.
  6.  6th, 8th and 12th house related in any way indicates slow and lingering death due to a chronicle disease in a hospital.

BY
GEETA JHA 
INDIA

Sunday, August 10, 2014

अधेड़ उम्र में बेलगाम सम्बन्ध

आलोक अपनी पत्नी सीमा के साथ वैवाहिक जीवन के 15 बसंत देख चुका था. हंसमुख मिज़ाज और अच्छी कद - काठी का आलोक सदैव अपनी पत्नी का विश्वासपात्र रहा था. लेकिन फिर न जाने क्यों अब वह सीमा की छोटी से छोटी बात को काफी तूल दे देता था, और लड़ने का कोई मौका नहीं छोड़ता था.

सीमा पहले तो अपने जीवन में आये इस चक्रवात का कारण नहीं जान सकी ; लेकिन फिर उसे अपने विश्वसनीय सूत्रों से पता चला की उसके पतिदेव आज कल किसी के इश्क में पागल हैं.

सीमा आश्वस्त थी कि जो वफादारी 15 साल चली वह जीवन पर्यंत चलेगी. फिर जब उसने अपने परिवार की नीव हिलते देखी तो उसने अपनी परिस्थितियों का अवलोकन करना आरम्भ कर दिया.
टीवी सीरियल - क्या हुआ तेरा वादा 
विवाहत्तेर सम्बन्ध आज कल फैशन की अवधारणा के रूप में स्थापित हो चुके हैं. विवाह जैसी संस्था का निर्माण ही इसलिए हुआ था कि स्त्री-पुरुष सामाजिक मर्यादायों और नियमों का पालन करते हुए यौन संबंधों की पवित्रता को बनाये रखे.

इधर दूरदर्शन पर दिखाए जाने वाले अधिकतर धारावाहिक विवाहत्तेर संबंधों को महिमा मंडित कर प्रदर्शित किये जाते हैं , जिनसे प्रेरित होकर बहुत से दंपत्ति अपने लिए नई संभावनाए तलाशने लग जाते हैं.

एक अवधि के पश्चात पति-पत्नी के संबंधों में एक प्रकार का ठहराव आ जाता हैं. बच्चों की पढाई -लिखाई, घर- गृह्थी, आर्थिक समस्याएँ दोनों को इतने उलझा कर रखती हैं की दोनों जब भी एक-दूसरे के साथ बैठते हैं, तो किसी न किसी समस्या पर ही वार्ता कर रहे होते हैं.

संबंधों में किसी भी प्रकार की नवीनता का समावेश नहीं होने से वे बासी हो जाते हैं. तब वो अपने जीवनसाथी को घर की मुर्गी दाल बराबर समझने लग जाते हैं . इस बढते हुए तनाव और दूरी के कारण वे अपना सुख अन्यंत्र खोजने लग जाते हैं.

सामान्यता अन्य सामाजिक- पारिवारिक संबंधों को बनाये रखने के लिए निरंतर प्रयास किये जाते हैं लेकिन वैवाहिक संबंधों को ज्यों के त्यों परिस्थियों के हवाले कर दिया जाता हैं. एक बार विवाह होने के बाद इस संस्था में किसी भी प्रकार की उत्कृष्टता का प्रयास नहीं किया जाता हैं. धीरे -धीरे समय के साथ इस संस्था में सड़न पैदा होने लगाती हैं.

गृहस्थी, बाल बच्चों, दाल रोटी की चिंता में फंसी पत्नी की आँख तब खुलती हैं जब पतिदेव परनारी के चक्कर में मारे-मारे फिरते हैं.

वीणा एक प्राइवेट फार्म में कार्यरत हैं. अत्यंत महत्वाकांक्षी महिला होने के कारण वह अपनी 
गृहस्थी  पर कम ही ध्यान दे पाती थी. विवाह के 10 वर्षों के पश्चात् उसने ध्यान दिया की उसका पति राकेश धीरे -धीरे उससे दूर होता जा रहा हैं. दोनों के मध्य यौन संबंधों में भी निरंतर कमी आती जा रही थी.

खुले विचारों की वीणा राकेश द्वारा अपनी महिला सहयोगियों की प्रसंशा हमेशा हँसी में उड़ा देती थी. लेकिन एक दिन उसने एक प्रसिद्ध पांच- सितारा होटल में अपने पति को अपनी एक महिला सहयोगी के साथ  हाथों में हाथ डाल कर हँस-हँस कर बातें करते देखा, उसके पावों तले ज़मीन खिसक गयी .

शरू में उसने भी अन्य महिलायों की तरह अपने पति की उस महिला सहयोगी को ही चरित्रहीन ठहराया . लेकिन गहराई से अवलोकन करने में उसने पाया जिस राकेश से विवाह करने के लिए वो अपने परिवार और समाज से लड़ी थी, जिसके प्रेम को लेकर वो इतनी आश्वस्त थी.  उसने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा की राकेश उसका प्रेम दूसरी औरत के साथ बाँट सकता हैं. इसका कारण उसका राकेश के प्रति उपेक्षा पूर्ण रवैया ही था.
फिल्म सिलसिला में  विवाहत्तेर सम्बन्ध
आजकल संयुक्त परिवार विघटित होते जा रहें हैं. व्यक्ति विशेष के ऊपर बुजुर्गों का निरंत्रण नहीं रह गया हैं. साथ ही कंधे से कन्धा मिला कर कम करने वाली अत्यंत महत्वाकांक्षी पत्नी भी संबंधों में दूरी पैदा कर सकती हैं.

एक निशित उम्र के बाद स्त्रियाँ यौन संबंधों के प्रति काफी उदासीन हो जाती हैं. और पतियों के साथ उपेक्षा पूर्ण रवैया अपनाने लग जाती हैं. पुरुष भी भावनात्मक सहयोग और यौन सुख के लिए दुसरे विकल्पों की तलाश में लग जाता हैं.

अधेड़ उम्र मैं काफी पुरूषों को उच्च-रक्त चाप, मधुमय, नपुंसकता, गठिया, जोड़ों में दर्द आदि व्याधियों का सामना करना पड़ जाता हैं, ऐसे में पत्नी की उपेक्षा उन्हें काफी हताश और कुंठित कर देती हैं और वे मित्रता के बहाने दूसरी स्त्रियों का साथ खोजने लग जाते हैं.

विवाहत्तेर सम्बन्ध पारिवारिक एवम वैवाहिक संस्थाओं की मर्यादा और पवित्रता भंग करतें हैं. मनोवैज्ञानिकों का कहना हैं की यदि पति-पत्नी निश्चित रूप से प्रतिदिन कुछ समय एक-दूसरे के साथ व्यतीत करे एवं पारिवारिक तथा दूसरी समस्याओं की जगह अन्य विषयों पर अपने विचार अदन-प्रदान करे तो भावनात्मक असुरक्षा का तो सवाल ही नहीं उढ़ता हैं.

  पति - पत्नी  नियमित रूप से 
कुछ समय  एक साथ जरुर बिताएं    
पत्नी पति की बेहतर जीवनसंगिनी हैं , यह तभी संभव हैं जब वो अपने पति की शारीरिक -मानसिक समस्याओं के निराकरण में उचित सहयोग दे. कभी कभी पति के व्यवसाय की मांग के अनुसार उसे निरंतर टूर पर रहना  पड़ता हैं , जिससे पतिदेव का परिवार से लगाव कम हो जाता हैं. पत्नी भी परिवार की सभी जिमेदारियां अपने ऊपर ले लेती हैं. उत्तरदायित्व   से मुक्त पतिदेव निश्चिंत होकर विवाहत्तेर संबंधों की और झुक जाते हैं. ऐसे हालात में पत्नी को चहिये की वो परिवार चलाने के लिए पति की मुख्य भूमिका की तरफ उसका ध्यान बार-बार दिलाये. बच्चों की पढाई-लिखाई, स्वास्थ, गृह्थी की सामान्य खरीदारी, रिश्तेदारी का निर्वाह करना आदि में पति से बार-बार सलाह लेकर सहयोग करने की अपील करे.

कामकाजी व्यस्त महिलायें  भी नियमित कुछ समय पति के साथ गुजारे. पति की छोटी से छोटी बीमारी के प्रति सजग रहें. उनके दवा लेने का समय, डाक्टर से मिलाने का समय आदि बातें नोट कर कर रखे.

उम्र के साथ स्वाभाव को चिड़चिड़ा  न बने दे और यौन संबंधों मे शिथिलता न आने दे. समय मिलाने पर पति के साथ अधेड़ उम्र में भी हिल स्टेशन जा कर कुछ अन्तरंग समय व्यतीत करे. सामान रूचि वाले कार्य यथा चित्रकारी, योग, ध्यान, व्यायाम इत्यादि साथ-साथ करे.

इसके अतिरिक्त अगर आपको पता चलता हैं की आपके पति परस्त्री संग कर रहें हैं तो बिना अपना संयम खोये उन्हें साफ शब्दों में विवाह की लक्ष्मणरेखा का ध्यान करवाएं . अपनी नाराज़गी खुले तौर पर व्यक्त करे, साथ ही अपने और अपने पति के संबंधों का विश्लेषण कर योग्य सुधार करे.

अधेड़ उम्र में संबंधों को मर्यादित करना आवश्यक हैं. इसी से सामाजिक और पारिवारिक मूल्य बचाए जा सकेंगे.

गीता झा 

Astro -Analysis of Spiritual Illuminati

Spiritualism is a way of life in which the seeker dedicates his entire life towards spiritual pursuits to gain the knowledge of the ultimate God and inner selves. Many seekers are drawn to this path to attain various types of mystical power and miraculous experiences, being bestow upon by dedicated practice.

Spiritual illuminati are an advanced seeker that practice the mystical form of faith for enlightenment. There are the different paths to experience the supreme, like devotion, renunciation, mystical techniques etc.

Factors responsible for spiritual illuminati:
  • Ascendant: indicate general mental and physical abilities of a person.
  • 5th house: indicates feelings, sentiments and devotion
  • 9th house: provides clue of religious activities like pilgrimage, construction of religious monuments.
  • 10th house: indicates anusthan which is the worship of higher order in which the seeker follows specific rules and regulations.
  • 12th house: indicate salvation
  • Jupiter: significator of religion, wisdom, spiritual thoughts philosophy and salvation.
  • Moon: significator of mental tendencies of a person.
  • Saturn: significator of detachment to worldly comforts.
  • Ketu: mystical practices and experiences are indicated by this planet.
Bhakti or devotion:

The intense spiritual path of love and devotion to the God is called Bhakti.
  • 5th house is appropriate to see the intensity of Bhakti.
  • Lords of 5th/9th are benefice and related to each other, indicates higher level of devotion for the supreme.
  • Spiritual planet Jupiter related to 5th house indicates devotion.
  • Masculine planet/sign dominating the 5th house/lord indicate the seeker will worship male deity.
  • Feminine planet/sign dominating the 5th house/lord indicate the worship of feminine deity.
Sanyaas or renunciation:

It is a state of dispassion and detachment from material life to attain spiritual enlightenment.
  • Saturn is the major significator of renunciation.
  • Saturn aspect a weak ascendant indicates sanyas –yoga
  • Saturn placed in 9th house without having aspect of any planet indicates renunciation.
  • Saturn posited in 10th house from ascendant/Moon and related to Sun in any manner by association/aspect/quadrant relationship, indicates sanyas- yoga.
  • More than four planets placed in any house indicate sanyas -yoga.
  • Moon in 9th house without having aspect of any planet, indicates sanyas.
  • Moon sign is aspected by the lord of ascendant and Saturn, indicates a great snyasi.
  • Ascendant is aspected by many planets being placed in a same sign.
  • Lord of 10th house combined with 4 planets in quadrant/trine indicates a great snyasi.
  • Lord of 9th is strong and being placed in 5th/9th and aspected/associated with Jupiter and Venus, indicates a snyasi of higher order.
  • Saturn is posited in 10th in Pisces sign, indication of detachment from the world.
  • Lord of ascendant is not aspected by any planet, but it aspects Saturn indicates detachment from material world.
  • Saturn is not aspected by any planet, but it aspects the lord of ascendant indicates sanyas-yoga.
  • Saturn and lord of ascendant aspect Moon sign indicate renunciation.
  • If Saturn is placed in 5th/9th or aspects these houses, and any four or more planets are in a house and one of these planets is the lord of the 10th house, is the sure combination for sanyas.
Yogi/mahatma:

They are the seekers of ultimate truth and inner illumination by practicing the art of uniting the body, mind and soul.
  • Capricorn ascendant is the main instrument of being a yogi/mahatma.
  • All the planets posited between Moon and Jupiter indicates a great yogi.
  • All the planets lying between Saturn and Mars the seeker will be a great yogi.
  • In Capricorn ascendant all the planets are posited between Sun and Mars, the seeker will be a great mahatma.
  • Jupiter is placed in ascendant, Saturn in 2nd, Moon in 11th and the Venus in 12th house indicates a yogi.
  • Saturn and Jupiter are placed 9th/10th house and in the same navamansa.
  • Saturn in 10th and aspected/associated by Moon may give mass support to the spiritual movement of the seeker.
BY
GEETA JHA
INDIA

Wednesday, August 6, 2014

तू छुपी है कहाँ मैँ तड़पता यहाँ .........

तू छुपी है कहाँ मैँ तड़पता यहाँ .......

तेरे बिन फीका फीका है दिल का जहाँ
तू छुपी है कहाँ मैँ तड़पता यहाँ
तू गई उड़ गया रंग जाने कहाँ
तेरे बिन फीका फीका है दिल का जहाँ


तू छुपी है कहाँ मैँ तड़पता यहाँ .......


दिल की महफ़िल में जब न मुझे तुम मिले
साँस लेती हूँ आके इस सुनसान  में
इन बहारों में जब न तुझे पा सकी
तो तड़पती हूँ आके इस वीरान में
तेरे बिन फीका फीका है दिल का जहाँ


तू छुपी है कहाँ मैँ तड़पता यहाँ .........

ये नज़रेँ दीवानी जो खोयी हुईँ 
तेरे रंगीन सपनोँ के रंगों मेँ
उमंगोँ मेँ जब ना तुझे पा सकी
ढूँढती हूँ मैं ग़म की तरंगोँ मेँ
तेरे बिन फीका फीका है दिल का जहाँ







तू छुपी है कहाँ मैँ तड़पता यहाँ .........


मैँ छुपी हूँ पिया तेरी पलकन मेँ
तेरी धड़कन मेँ 
तेरी हर साँस मेँ
तेरी हर आस मेँ
मैँ छुपी हूँ कहाँ मेरा ये राज़ सुन
दर्द के हाथोँ ग़म से भरा साज़ सुन
मेरे रोते हुए दिल की आवाज़ सुन





जब तलक तेरा मेरा न होगा मिलन 
मैँ ज़मीँ आसमाँ को हिलाती रहूँगी 
आखिरी आस तक आखिरी साँस तक 
खुद तड़पूँगी और तड़पाती रहूँगी 




ये कौन घुँघरू झमका
ये कौन चाँद चमका
ये धरती पे आसमान आ गया पूनम का
ये कौन फूल महका
ये कौन पंछी चहका
महफ़िल मेँ कैसी खुशबु  उड़ी
दिल जो मेरा बहका



लो तन मेँ जान आई
होँठोँ पे तान आई
मेरी चकोरी चाँदनी मेँ कर के स्नान आई
बिछड़ा वो मीत आया
जीवन का गीत आया





दो आत्माओँ के मिलन   का दिन पुनीत आया

सूरत है मेरे सपनोँ की तू सोहिनी

जमुना तू ही है तू ही मेरी मोहिनी
तेरे बिन फीका फीका है दिल का जहाँ




तू छुपी है कहाँ मैँ तड़पता यहाँ ..........


                              Divine Dance of Soul and Consciousness

                            Thought of You - by Ryan Woodward


Tuesday, August 5, 2014

मंत्र-शक्ति की वैज्ञानिकता

मंत्र क्या हैं ? :

 मनन करने से जो त्राण करता हैं , रक्षा करता हैं उसे ही मंत्र कहते हैं.मंत्र शब्दात्मक होते हैं. मंत्र सात्त्विक, शुद्ध और आलोकिक होते हैं. अंत-आवरण हटाकर बुद्धि  और मन को निर्मल करतें हैं.मन्त्रों द्वारा  शक्ति का संचार होता  हैं और उर्जा उत्पन्न होती हैं.आधुनिक विज्ञान  भी मंत्रों की शक्ति को अनेक प्रयोगों से सिद्ध कर चुका हैं.समस्त संसार के प्रत्येक समुदाय, धर्म या संप्रदाय के अपने-अपने विशिष्ट मंत्र होतें हैं.अनेक संप्रदाय तो अपने विशिष्ट शक्तियों वाले मन्त्रों पर ही आधारित हैं. 

मन्त्रों की प्रकृति: 

मंत्र का सीधा  सम्बन्ध ध्वनि से है इसलिए इसे ध्वनि -विज्ञान भी कहतें हैं. ध्वनि  प्रकाश,ताप, अणु-शक्ति, विधुत -शक्ति की भांति  एक प्रत्यक्ष  शक्ति हैं . विज्ञान का अर्थ हैं सिद्धांतों का गणितीय होना. मन्त्रों में अमुक अक्षरों का एक विशिष्ट क्रमबद्ध  , लयबद्ध और वृत्तात्मक  क्रम होता हैं. इसकी निश्चित नियमबद्धता और निश्चित अपेक्षित परिणाम ही इसे वैज्ञानिक बनातें हैं. मंत्र में प्रयुक्त प्रत्येक शब्द का एक निश्चित भार,रूप,आकर,प्रारूप, शक्ति, गुणवत्ता और रंग होता हैं . मंत्र एक प्रकार की शक्ति हैं जिसकी तुलना हम गुरुत्वाकर्षण, चुम्बकीय-शक्ति और विद्युत -शक्ति से कर सकते हैं. प्रत्येक मंत्र की एक निश्चित उर्जा,फ्रिक्वेन्सि और वेवलेंथ होती हैं.

अधिष्ठाता - देव या शक्ति : 

प्रत्येक मंत्र का कोई न कोई अधिष्ठाता - देव या शक्ति होती  हैं. मंत्र में शक्ति उसी अधि- शक्ति से आती हैं.मंत्र सिद्धि होने पर साधक को उसी देवता या अधि-शक्ति का अनुदान मिलता हैं. किसी भी मंत्र का जब उच्चारण किया जाता हैं तो वो वह एक विशेष गति से  आकाश - तत्व के परमाणुओं के बीच कम्पन पैदा करते हुए उसी  मूल -शक्ति / देवता  तक पहुंचतें  हैं,  जिससे वह मंत्र सम्बंधित होता हैं. उस दिव्य शक्ति से टकरा कर आने वाली परावर्तित तरंगें अपने साथ उस अधि -शक्ति के  दिव्य- गुणों की तरंगों को अपने साथ लेकर लौटती हैं और साधक के शरीर,मन और आत्मा में प्रविष्ट कर उसे लाभान्वित करतीं हैं.

मंत्रों की गति करने का माध्यम: 

ध्वनि एक प्रकार का कम्पन हैं.प्रत्येक शब्द आकाश के सूक्ष्म परमाणुओं में कंपन  पैदा करता हैं. 
  
ध्वनि तरंगें एक प्रकार की mechanical -waves होती हैं. इन तरगों को यात्रा करने के लिए एक माध्यम की आवश्कता पड़ती हैं जो ठोस,तरल या वायु रूप में हो सकती हैं. हमारे द्वारा बोले गये साधारण शब्द वायु माध्यम में गति करतें हैं और वायु के परमाणुओं के प्रतिरोध उत्पन्न करने  के कारण  इन ध्वनि तरंगों की गति और उर्जा बाधित होती हैं.मन्त्रों की स्थूल ध्वनि -तरंगें वायु में व्याप्त अत्यंत सूक्ष्म और अति संवेदनशील ईथर  -तत्व में गति करती हैं. ईथर - माध्यम के परमाणु अत्यंत सूक्ष्म और संवेदनशील होतें हैं.इसमें गति करनें वाली ध्वनी तरंगें बिना अपनी शक्ति- खोये काफी दूर तक जा सकती हैं. लेकिन मंत्र की सूक्ष्म - शक्ति आकाश में स्थित और अधिक सूक्ष्म तत्व जिसे मानस-पदार्थ कहतें हैं में गति करतीं  हैं.वायु और ईथर  के कम्पन्नों की अपेक्षा मानस-पदार्थ के कम्पन्न कभी नष्ट नहीं होते हैं और इसमें किये गए कम्पन्न अखिल ब्रह्माण्ड की यात्रा कर अपने इष्ट -देव तक पहुँच ही जातें हैं. अतः प्रत्येक  मंत्र की शब्द - ध्वनियाँ एक साथ  वायु, ईथर  और मानस-माध्यमों में गति करतीं हैं.

मन्त्रों की गति: 
प्रत्येक मंत्र साधक और उस मंत्र के अधिष्ठाता - देव के मध्य एक अदृश्य सेतु का कार्य करता हैं. साधारण बोले गए शब्दों की ध्वनि - तरंगें वातावरण में प्रत्येक दिशा में फ़ैल कर सीधे चलतीं हैं. लेकिन मन्त्रों में प्रयुक्त शब्दों को क्रमबद्ध, लयबद्ध,वृताकार क्रम से  उच्चारित करनें से एक विशेष प्रकार का गति - चक्र बन जाता हैं जो सीधा चलनें की अपेक्षा स्प्रिंग की भांति वृत्ताकार गति के अनुसार चलता  हैं और अपने गंतव्य देव तक पहुँच जाता  हैं. पुनः उन ध्वनियों की प्रतिध्वनियाँ उस देव की अलोकिकता  , दिव्यता  , तेज और प्रकाश -अणु लेकर साधक के पास लौट जाती हैं. अतः हम कह सकतें हैं की मन्त्रों की गति spiral -cirulatory -path का अनुगमन करती हैं. इसका उदहारण हम BOOMERANG या प्रत्यावर्ती बाण के पथ से कर सकते हैं , जिसकी वृत्तात्मक यात्रा पुनः अपने स्त्रोत पर आ कर ही ख़तम होती हैं . अतः मन्त्रों के रूप में जो भी तरंगें अपने मस्तिष्क से हम ब्रह्माण्ड में प्रक्षेपित करतें वे लौट कर हमारे पास ही आतीं हैं. अतः मंत्रो का चयन अत्यंत सावधानी से करना चाहिए .

गायत्री मंत्र महामंत्र हैं. इस मंत्र के अधिष्ठाता - देव सूर्य हैं.जब हम गायत्री -मंत्र का जाप करतें हैं तो ब्रह्माण्ड के मानस -माध्यम में एक विशिष्ट प्रकार की असाधारण तरंगें उठती हैं जो स्प्रिंगनुमा- पथ का अनुगमन करती हुई सूर्य तक  पहुँचती हैं.  और उसकी प्रतिध्वनी लौटतें समय सूर्य की दिव्यता,प्रकाश,तेज, ताप और अन्य आलोकिक गुणों से युक्त होती हैं और साधक को  इन दिव्य - अणुओं से भर देतीं हैं. साधक शारीरिक,मानसिक और अध्यात्मिक रूप से लाभान्वित होता हैं.                                 
   
मंत्र-सिद्धि:

जब मंत्र ,साधक के भ्रूमध्य या आज्ञा -चक्र में अग्नि - अक्षरों में लिखा दिखाई दे, तो मंत्र-सिद्ध हुआ समझाना चाहिए.
जब बिना जाप किये साधक को लगे की मंत्र -जाप अनवरत उसके अन्दर स्वतः चल रहा हैं तो मंत्र की सिद्धि होनी अभिष्ट हैं.
साधक सदेव अपने इष्ट -देव की उपस्थिति अनुभव करे और उनके दिव्य - गुणों से अपने को भरा समझे तो मंत्र-सिद्ध हुआ जाने.
शुद्धता ,पवित्रता और चेतना का उर्ध्गमन का अनुभव करे,तो मंत्र-सिद्ध हुआ जानें .
मंत्र सिद्धि के पश्च्यात साधक की शारीरिक,मानसिक और अध्यात्मिक इच्छाओं की पूर्ति होनें लग जाती हैं.

By
Geeta Jha

Monday, August 4, 2014

सूर्य – ज्योतिष - हम

सूर्य
खगोल -शास्त्र के अनुसार सूर्य हीलियम और हाइड्रोजन  से निर्मित एक अग्निपिण्ड हैं , जो आकाश में स्थित अनंत आकाश गंगाओं में Spiral या मन्दाकिनी नामक एक आकाश गंगा के परिवार में स्थित 1 ½  खरब तारों में एक छोटा सा तारा मात्र हैं. सूर्य का डायमीटर 6 लाख मील हैं जो पृथ्वी  से 110  गुना बड़ा हैं. सोलर फॅमिली में 9 ग्रह, ग्रहों के उपग्रह , अनगिनत  asteriods , meteors , comets   इत्यादि आते हैं.

                      
सोलर -सिस्टम के समस्त घटक  सूर्य के प्रबल आकर्षण शक्ति से जकड़े हुए उसकी परिक्रमा करते हैं. अपने इस पूरे परिवार को लेकर सूर्य खुद 200 किलोमीटर/सेकंड  की रफ्तार से Spiral आकाश गंगा की परिक्रमा करता हैं . इस एक परिक्रमा में उसे 25 करोड़ वर्ष लगते हैं. सूर्य का तापमान लगभग 6,000-से- 60,000  सेन्टीग्रेड हैं.

सूर्य-पृथ्वी

पृथ्वी सूर्य की आकर्षण शक्ति से वशीभूत होकर उसकी परिक्रमा का रही हैं. सूर्य लगभग पृथ्वी से  9.38  लाख मील दूरी  पर स्थित हैं. इतनी दूरी पर रहते हुए भी पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति का श्रेय उसे ही दिया जाता हैं. 30  किलोमीटरसेकंड की गति से चलते हुए पृथ्वी  लगभग  365 ¼ दिनों  में सूर्य की एक परिक्रमा करती है. सूर्य का आकर्षण बल पृथ्वी से 28  गुना अधिक हैं, अर्थात पृथ्वी पर यदि कसी वस्तु का भार 10 किलोग्राम हैं तो सूर्य पर उसका भार  280  किलोग्राम होगा. सूर्य के प्रकाश को पृथ्वी तक पहुँचने में 8 मिनट  लगते हैं और यदि सूर्य पर कोई जोरदार विस्फोट होगा तो पृथ्वी तक उस ध्वनि को उसे आने में 14  साल लग जायेंगे. 

                                       
                                
पृथ्वी का आकर चपटापन लिए हैं और उसकी भ्रमण कक्षा भी अंडाकार हैं . इसी विशेषता से शीत और ग्रीष्म ऋतुएँ आती हैं.
आधुनिक विज्ञान केवल सूर्य के प्रकाश,ताप और आणविक विकरण का कुछ अंश ही पता लगा पाया हैं. लेकिन यह सब उसके स्थूल गुण हैं जो किसी भी मानव निर्मित मशीन से प्राप्त किये जा सके हैं लेकिन सूर्य के अन्दर एक सूक्ष्म सत्ता भी उपस्थित रहती हैं जो जीवनी- शक्ति बन कर प्राणियों को उत्पन्न करने, पोषण करने और अभिवर्धन करने का कार्य करती हैं.

पृथ्वी का समस्त जीवन-क्रम सूर्य से ही चलता हैं. अगर सूर्य मिट जाये तो पृथ्वी से समस्त चर-अचर जीवों का अस्तित्व मात्र 3  दिनों में ही समाप्त हो जायेगा. सूर्य से ताप, विद्युत, और प्रकाश की अनवरत निकलने वाली तरंगें यदि पृथ्वी तक नहीं पहुंचे तो सर्वत्र नीरवता, स्तब्धता , परिलक्षित होगी. अणुओं की सक्रित्यता जो पदार्थों का अविर्भाव , अभिवर्धन एवं परिवर्तन करती हैं उसका कोई अस्तित्व नहीं होगा.
                                             

सूर्य के प्रकाश की सबसे छोटी इकाई फोटोन में विद्युतऊष्मा , और गति तीनों तत्व होते हैं. अतः यह जीवन की सबसे छोटी इकाई प्राण   तत्व का ही प्रतिनिधित्व करते हैं. सृष्ठी  के आरंभ से पृथ्वी के वातावरण,प्राणियों, पदार्थों और ऋतुओं में जो भी परिवर्तन आये हैं वे सब सूर्य और पृथ्वी के मध्य चलने वाले  विद्युत-चुम्बकीय अदान-प्रदान और प्रतिक्रियाओं से संभव हो पाएं हैं.

सूर्य की नवग्रहों में गिनती

सूर्य सौर-मंडल में स्थित एक विशालकाय प्रकाश-पुंज तारा हैं जो निश्चित  रूप से ग्रह की परिभाषा में नहीं आता हैं. ग्रह तो उसे कहते हैं जो हमारे सौर-मंडल के केंद्र में अवस्थित सूर्य की अपनी -अपनी कक्षा में रहकर परिक्रमा करतें हैं और उससे प्रकाश और ऊर्जा ग्रहण करते हैं, तथा उनमें अपना कोई ताप और तेज़ नहीं होता हैं.

लेकिन हम पृथ्वी निवासी पृथ्वी पर रह कर सूर्य सहित सभी ग्रहों से प्रभावित होतें हैं , अतः ज्योतिषशास्त्र में सूर्य के स्थान पर पृथ्वी को ही केंद्र मान कर , पृथ्वी को स्थिर मान कर , सूर्य को उसकी परिक्रमा करने वाला ग्रह मान लिया हैं.

यह ठीक उसी प्रकार हैं जैसे चलती हुई  रेलगाड़ी में बैठ कर हम  उसे [ रेलगाड़ी को ] स्थिर और उसके बाहर अगल-  बगल के  स्थिर पेड, पौधों और मकान इत्यादि को द्रृत गति से दौड़ते हुआ गतिशील देखते है.   

सूर्य- ज्योतिष -हम 

सूर्य से निकलने वाली प्रकाश रश्मियों की सूक्ष्मतम इकाई - फोटोन-कई रंगों के अणुओं से बनी होती हैं. मानव शरीर की प्रकाश-आभा  या औरा भी कई रंगों के अणुओं से मिलकर बनी होती हैं. 

सूर्य के प्रकाश की तरंगों का मनुष्य के औरा पर प्रतिक्षण प्रभाव पड़ता हैं . इसी प्रभाव के परिणाम स्वरुप औरा अपना रंग बदलता हैं. इन्ही  प्रकाश अणुओं के प्रभाव से स्वाभाव, संस्कार, इच्छाएं,एवं क्रिया-शक्ति का निर्माण होता हैं.


प्रातः काल सूर्य की किरने तिरछी पड़ती हैं, मध्यं में सीधी पड़ती हैं एवं रात्रि में किरणों का आभाव होता हैं. इस प्रकार जिस समय बच्चे का जन्म  होता हैं उस समय सूर्य से विकरित होने वाली तरंगों के अनुसार उसका स्वाभाव बनता हैं. अर्थात समय के अनुसार स्वाभाव बन जाता हैं.

ग्रीष्म ऋतू [ जब सूर्य वृष और  मिथुन राशि में होता हैं] में, सूर्य की किरणें सीधी पड़ती हैं. हेमंत ऋतू [ जब सूर्य वृश्चिक और धनु राशि में होता हैं] में तिरछी पड्ती है . अतः इन ऋतुओं में सूर्य की रश्मि में उत्पन्न बालकों का स्वाभाव, शारीरिक , मानसिक स्थिति भिन्न-भिन्न होगी.

 ध्रुव प्रकाश में प्रखर तीब्रता मार्च और सितम्बर [ चैत और अश्विन की नवरात्री] में देखि जाती हैं. इस समय पृथ्वी का अक्ष सूर्य के साथ उचित कोण पर होता हैं . धरती पर बीज बोने का यही समय प्रभावी होता हैं. साधक गण अधिकतर साधनों में सफलता भी इसी समय प्राप्त करते हैं. ऐसा सूर्य से निकालने वाली विशिष्ट विद्युत्-चुम्बकीय तरंगों के प्रभाव से होता हैं.

मानव शरीर में      Endocrine glands जैसे Thyriod Peanal Adrenal Pituitary  आदि मष्तिष्क से उत्पन्न होने वाले विचारों को प्रभावित करते हैं. ये ग्रंथियां सूर्य से अपना सम्बन्ध स्थापित कर स्वयं  को विशिष्ट  प्रकाश किरणों से भर लेती है . जैसा प्रकाश अवशोषित  होगा उसी प्रकार की विचार तरंगें मस्तिष्क में पैदा होंगी. उदाहरण के लिए जिस मानव की ग्रंथि लाल रंग के प्रकाश के कणों को प्रचुरता में ग्रहण करेगी उस मानव का स्वभाव  उग्रता, वीरता और उत्तेजना से पूर्ण होगा.

आधुनिक भौतिक विज्ञान  आज कल उन्हीं निष्कर्षों पर पहुँचने की कोशिश कर रहा हैं , जिस पर सदियों पहले भारतीय तत्त्ववेता और ज्योतिष के मर्मज्ञ पहुँच चुके थे. आज कल भौतिकविद भी स्वीकार करने लगे हैं की सौर-मंडल की गतिविधियाँ पृथ्वी के वातावरण और जैविक  एवं  मानवीय  परिस्थियों पर प्रभाव डालती हैं.


By 
Geeta Jha

Thursday, July 24, 2014

कहाँ तुम चले गये

                        
कहाँ तुम चले गये ……




चिट्ठी ना कोई संदेश

जाने वो कौन सा देश जहाँ  तुम चले गये


चिट्ठी ना कोई संदेश

जाने वो कौन सा देश जहाँ  तुम चले गये

जहाँ  तुम चले गये.....

इस दिल पे लगा के ठेस जाने वो कौन सा देश

जहाँ  तुम चले गये...

एक आह भरी होगी हमने ना सुनी होगी

जाते जाते तुमने आवाज़ तो दी होगी

हर वक़्त यही है गम, उस वक़्त कहाँ  थे हम

कहाँ  तुम चले गये.....

चिट्ठी ना कोई संदेश जाने वो कौन सा देश

जहाँ  तुम चले गये 
जहाँ  तुम चले गये

इस दिल पे लगा के ठेस जाने वो कौन सा देश

जहाँ तुम चले गये...


हर चीज़ पे अश्कों से लिखा है तुम्हारा नाम

ये रास्ते घर गलियाँ तुम्हे कर ना सके सलाम

है दिल में रह गयी बात, जल्दी से छुड़ा कर हाथ

कहाँ  तुम चले गये.....

चिट्ठी ना कोई संदेश जाने वो कौन सा देश

जहाँ तुम चले गये जहाँ  तुम चले गये

इस दिल पे लगा के ठेस जाने वो कौन सा देश

जहाँ तुम चले गये...


अब यादों के काँटे इस दिल में चुभते हैं

ना दर्द ठहरता है ना आँसू रुकते हैं

तुम्हे ढूँढ रहा है प्यार, हम कैसे करें इक़रार

की हाँ तुम चले गये.....

चिट्ठी ना कोई संदेश जाने वो कौन सा देश

जहाँ  तुम चले गये जहाँ  तुम चले गये

इस दिल पे लगा के ठेस जाने वो कौन सा देश

जहाँ तुम चले गये...

हो कहाँ तुम चले गये !!!