Tuesday, July 30, 2013

Tune with Our Own Personal God with Huna

Huna is a potent occult secret coveted by the magicians of ancient Egypt and rediscovered by Hawaiian community. It is a power of incalculable worth and magnitude.

In applying its power you will possess the ultimate incredible occult tool. It is an amazing psychological system of ancients which will perform miracle for you and take a giant step towards God-hood.

The word Kahuna means ''keeper of the secret ''.It was the ancient and forbidden knowledge. The kahunas were higher priests and extraordinary miracle workers of ancient Egypt practising the mind bogging magic tricks.

The huna is a simplified forms of magic-working based upon the human-psychology.

By implementing Huna knowledge you will get the ultimate power to transform your life from chaos to into that which you want it to be.

The God Within:
  • The mystical kahuna practitioners believe that the God can only be reached through inner illumination.
  • God is not in the heaven or anywhere else but within.
  • Every person is potentially a God in his own right.
  • Once we realise our God potentiality we gain the power to create and to destroy.
  • True prayer or meditation is a communication with the inner God.
  • One's higher self is the God-self locating at about five feet above the head.
The God and Higher Self Paradoxes:
  • The kahunas were extremely practical in their beliefs. In praying they addressed their supplications to their higher selves rather than any remote God living in the heave or anywhere else.
  • The ides of supreme God residing outside is ludicrous to kahunas. Who does nothing, but listen simultaneously to the millions of prayers offered to him over the universe every day.
  • According to kahunas trying to comprehend the outside Deity create an undesirable mental and emotion blockage within the petitioner.
  • The kahuna believe that the higher self of a person is his own enlightened part which has reached to the God -status.
  • It is our higher self to whom we must turn in order to gain divine power of magic.
  • The higher self has the power to solve our any problem in a very definite manner if only we would seek its help.
  • The higher self will never intervene in one's affair unless its help is specifically asked for is the peculiar secret of the huna psychology.
  • The Mystical teachings of huna taught the unique method of connecting or attuning to the God-within.


Tuesday, July 23, 2013

Ram - The Inner Fire


Ram means soul or Atma, he was among 24 avatars of lord Vishnu whose life and deeds are recorded in Ramayana.
Ram means the pure soul. Ram was the prince of Ayodhya. He was embodiment of all noble merits.

Known as purshottama or the best among the men he had supreme personality and unlimited virtues. RAMA BRAHM PARAMARRTHA ROOPA in the language of saguna [manifest form] Moksha or Salvation is the name of Shri Ram.

Ram resides in Manipur chakra or at Solar-Plexus. The seed mantra for Manipur chakra is Ram and Vehicle is a ram. This chakra is the centre of whole body. All of the main nadis meet there. It is very important for functioning of body. A child in the womb is connected to the mother through the umbical cord near this centre and gets nourishment through it.

During astral travel the subtle body and physical body remain connected to each other by a very fine invisible silver chord coming through Manipur chakra.

Awakening of this chakra brings control over life and death, the creation of heat and knowledge of internal functions of physical body.

Qualities like keenness of perception, untiring activity, and the drive to action, inner energy and courage are due to proper function of Manipur chakra. It intensifies the flow of blood, helps proper oxygenation and develops organising power, leads to leader ship. This chakra plays an important role in character building of a child.


In Sanskrit Agni are the flames of something burning or something that creates light and gives energy or vitality of expression or the capacity of action or the will or power to perform work meaning strength or might.

Fire is among the five subtle fundamental elements responsible for the creation. Fire can be seen, heard and felt. In order of evolution, this is the first element that can be seen. This is why it is consider being the nearest form of creator in visible form and therefore considering sacred and employed for invoking the lord in all rituals.
Fire creates heat in the body. It regulates sight, provides strength to body by digestion, induces hunger and thirst and maintains suppleness of muscles and beauty of skin. It helps in thinking and facilitates the discrimination power of the brain. It helps the production of antibody. In lay man language we can say that the Fire element is the starter of our body-car.

Hindu philosophy is ---termed as Principle of Fire.

Analogy of Ram and Fire


Heat is the form of energy that causes raise in temperature in a body. By raising temperature heat causes fusion, evaporation, expansion.

The water in the body is controlled by the heat of the body depends upon one's digestive power. So whenever the digestive system weakens the internal temperature goes down.

When the kundalini Shakti is activated by chanting Ram mantra, the prana descends and apana ascends and they strike each other at Manipur chakra and heat is created all over the body. Due to this heat the nadis get purified. Thus creation of heat is essential for upward movement of kundalini Shakti. When the kundalini Shakti awakes it eats up the impurities in the body. The elements of water and earth become purified and dried and the body becomes rejuvenated.


Light is brightness. Light makes vision possible. Light is electromagnetic radiation visible to human and all being eyes. Light is product of visibility and propagation of radiant power.

Ram as inner light is Gyan-agni or the fire of wisdom, which burns away the illusion of lower life and avidya or ignorance and leaves only the knowledge of the real.

Cosmic fire

The fire burn away any substance and reduce it to the irreducible minimum constituents under a particular set of circumstances.
Cosmic fire is the light of reality and is the source of divine consciousness, the root of mind and power. Ram as cosmic fire burns the illusion, ignorance and leaves the knowledge of Real.

Jathragani or the Gastric fire

The gastric fire disintegrates the food we take and reduces it to the essential simple elements which can be assimilated by the body for its normal functioning.

Ram as the seed mantra for Manipur chakra controls and regulates the fire element of the body and so controls spleen, liver and gall bladder and assist in the creation of bile's and digestive juices.

Jnanagni or the fire of Wisdom

The basic nature of the fire is to remove the non essential and leave the essential.

Ram as the fire of wisdom burns away all the illusion or Avidya or Ignorance and leaves only pure knowledge.

The Latent or Hidden fire
The latent fire is the fire hidden in an element like fire hidden in a match stick.

In Vedic philosophy God is called Agni or Fire because he is self -glorious, because he is incarnate knowledge, Indra because he is protector of all and the Almighty Lord of all, Prana because he is the fountain of life for all and Brahman because he is the all pervading principle of the cosmos.

Ram is the primal inner fire which contains within itself the light, the brilliance and the heat of thousands suns put together. The inner fire of Ram combines thousands of lightning bolts together.


Wednesday, July 17, 2013

प्रेम - विवाह

चैत मास की पूर्णिमा के दूसरे पहर, जब उसने इस नश्वर संसार में पहली बार अपनी आखें खोली ,तो लोगों को अपने इर्द-गिर्द नाचते- गाते ,उत्सव मानते देखा.लोग उसके माता- पिता को हार्दिक बधाई दे रहे थे.स्त्रियाँ मंगल- गीत गा रही थीं, नाना प्रकार के ढोल मंजीरे बज रहे थे. इसी कोलाहल के बीच उस नवजात शिशु ने न जाने कब आकाश में स्थित, उस दुधिया चाँद का मौन अभिनंद स्वीकार कर लिया..... कोई भी नहीं जान पाया?

बाल्यकाल में ही वह एक शांत प्रवृति का बालक था.बाल सुलभ चपलता उसमें नहीं थी.खाने पीने के मामले में भी उसे दूध,मिठाई,मेवे आदि रुचिकर नहीं थे,लेकिन आँगन में पड़ी धूल को वह अत्यंत आनंदित होकर फाँकता था. परिणाम स्वरुप उसे अपनी माँ की प्यार भरी धौल का सामना भी करना पड़ जाता था.अपने ऊपर हुए इन मृदुल अत्याचारों की फ़रियाद वो रात में आसमान में निकल आये उन असंख्य तारों से अवश्य करता था.

बाल्यावस्था में उसके माता पिता ने अपने कर्तव्यों का निर्वाह करते हुए उसका दाखिला एक विद्यालय में करवा दिया. विद्यालय जाते समय वह राह में वृक्षों की कतारों को मंत्रमुग्ध होकर देखता था.....झरने के कल-कल स्वर को सुन कर उसका हृदय वीणा की भांति झंकृत हो जाता था....रंग -बिरंगे पुष्पों से लदी हुई डालियों को देख कर वह रोमांचित हो जाता था.....रास्ते भर वह प्रकृति की विभिन्न विधाओं को अपने मस्तिष्क की मञ्जूषा में सहेज कर रखता जाता था.

विद्यालय उसे कैद -खाने से कम प्रतीत नहीं होता था. किसी तरह पढ़ने के बाद वह ना जाने किस सम्मोहन से खिंच कर समुन्द्र के पास जाकर खड़ा हो जाता था ......और बेसुध सा समुन्द्र की अनगिनत लहरों को गिनने का प्रयास करता .......वर्षा ऋतु में मिट्टी की सौंधी सुगंध से वह सिहर उढ़ता था.....आकाश में उमड़ आए बादलों से वह विभिन्न रूप बनता था.......इन्द्रधनुष के सतरंगी रंगों को निहारते हुए उसने यौवन में कदम रखा.

अब वह प्रकृति का सजीव चित्रण अपनी चित्रकारी में कर लेता था.उसे भौतिक वस्तुयों से किंचित भी लगाव नहीं था.....ना ही किसी व्यक्ति से.....उसे लगाव था तो केवल प्रकृति से.....वह एक प्रकृति-प्रेमी था.

माता- पिता ने अपने युवा बेटे को विवाह करने का परामर्श दिया. वह अक्सर एकांत में बैठ कर सोचता की.... क्या प्रेम केवल मानव या अन्य किसी प्राणी से ही किया जा सकता हैं?.....क्या यह पेड़-पौधे ,पृथ्वी,आकाश समुन्द्र उससे विवाह नहीं कर सकते हैं?.

पूर्णिमा की रात ,वह अपने माता -पिता और अन्य लोगों के तानें सुन कर घर से बाहर निकल पड़ा .....समुन्द्र से विवाह करने ......विवाह की सारी साजों- सामग्री  ले कर.

समुन्द्र तट पर खड़े होकर उसने समुन्द्र की मौन स्वीकृति ली.

पूर्णिमा की रात्रि , चंद्रमा धीरे-धीरे आगे बड़ने लगा.... और समुन्द्र में ज्वार-भाटा उठाने लगा.......पानी उसकी घुटनों तक आ गया.विधिवत मन्त्रों का उच्चारण करते हुए ......असंख्य तारों को साक्षी मान कर उसने समुन्द्र को वरमाला पहनाई.......चन्द्रमा मौन होकर आगे बढ़ाते गया ........और पानी उसकी कमर तक आ गया.

परन्तु वह तो प्रकृति के प्रेम में पागल था.....उसे सुध कहाँ थी? ....वह पूरे ज़ोर- शोर से मन्त्रों का उच्चारण करता रहा......पानी उसके गले तक आ गया.

विवाह की अंतिम रस्म ........सिंदूरदान......और चन्द्रमा उसके शीर्ष पर पहुँच गया........एक बड़ी सी लहर आई .......और वह समुन्द्र के आगोश में समां गया......समुन्द्र ने उसे स्वीकार कर लिया.

कुछ समय पश्चात ज्वार-भाटा शांत हुआ.........उसका नामोनिशान मिट चूका था...........लेकिन
वह अपने प्रेम -विवाह का प्रमाणपत्र छोड़ गया था.

गीता झा

Monday, July 15, 2013

मन्त्र - सिद्धि

मन्त्र क्या है ?

मननात् त्रायते इति मन्त्रः

जिसके मनन से त्राण मिले वह मन्त्र है . यह अक्षरों का ऐसा दुर्लभ एवं विशिष्ट संयोग है , जो आन्तरिक और बाह्य चेतना जगत को आंदोलित, आलोड़ित एवं उद्वेलित कर देता है .

मन्त्र का कोई अर्थ हो भी सकता है और नहीं भी हो सकता है . यह एक पवित्र विचार भी हो सकता है और नहीं भी हो सकता है . जैसे गायत्री महामंत्र सृष्टि का सबसे पवित्र विचार है उसमें परमात्मा से सभी के लिए सदबुद्धि एवं सन्मार्ग की प्रार्थना की गई है. लेकिन मन्त्र को किसी विचार की संकरी सीमाओं में नही बांधा जा सकता है . कई बार मन्त्र के अक्षरों का संयोजन इस परकार होता है की उनका कोई अर्थ निकलता है और कई बार संयोगं इतना अटपटा होता है की इसका कोई अर्थ नही खोजा जा सकता है .

दरसल मन्त्र की संरचना किसी विशेष अर्थ या विचार को ध्यान में रख कर नहीं की जाती है . इसका तो एक ही मतलब है की ब्रह्मांडीय उर्जा की किसी विशेष धारा से संपर्क, आकर्षण, धारण और उसके सार्थक नियोजन की विधि का विकास .

मन्त्र की संरचना कौन करने का अधिकारी है ?

मन्त्र कोई भी हो वैदिक, पौराणिक या तांत्रिक यह बात ध्यान में रखनी चाहिए की इनकी संरचना या निर्माण कोई बौद्धिक क्रियाकलाप नहीं है . कोई भी व्यक्ति भले ही वह कितना ही बुद्धिमान या प्रतिभा शाली क्यों न हों मन्त्रों की संरचना नहीं कर सकता है.मन्त्रों की संरचना वही कर सकता है जो तप साधना के शिखर पर पहुँच कर सूक्ष्म दृष्टा और दिव्य दर्शी बन गया हो .

ये महा साधक अपने तपोबल के माध्यम से ब्रह्मांडीय उर्जा के विभिन्न और विशिष्ट धाराओं को देखने में सक्षम होते हैं . मन्त्रों की अधिष्ठात शक्तियां जिन्हें देवी या देवता कहा जाता है , उन्हें प्रत्यक्ष करते है. और उस प्रत्यक्ष शक्ति के बिम्ब के रूप में मन्त्र का संयोजन उनकी भावचेतना में प्रगट होता हैं . उसे ऊर्जा धारा या देवशक्ति का शब्द रूप भी कह सकते हैं .

या कई बार ध्यान और तप की उच्च स्तिथि में तत्व दर्शी साधक के अंतर्मन में मन्त्रों के प्रवाह का जो चित्र बनता है उसी के आधार पर उसके अधिनायक देवताओं या दिव्य शक्तियों की आकृति का आंकलन किया जाता है .

मन्त्र विद्या में इसे देव शक्ति का मूल मन्त्र कहते हैं . इस देव शक्ति के उर्जा अंश के किस आयाम को और किस प्रयोजन के लिए ग्रहण-धारण करना है उसी के अनुसार उस देवता के अन्य मन्त्रों की संरचना या निर्माण किया जाता है . इसलिए एक देवी या देवता के अनेकों मन्त्र हो सकते है. प्रत्येक मन्त्र अपने विशिष्ट प्रयोजन को सिद्ध और सार्थक करने में समर्थ होता है .

मन्त्र सिद्धि क्या है ?

मन्त्र साधना का एक विशिष्ट क्रम पूरा होने पर साधक की चेतना का संपर्क ब्रह्माण्ड की विशिष्ट धारा या देव शक्ति से हो जाता है . साधक के कई अतीन्द्रिय केंद्र जागृत हो जाते है, और वह मन्त्र के देवशक्तियों के सूक्ष्म विशिष्ट धारा को ग्रहण करने धारण करने और उनका नियोजन करने में पूर्णतः समर्थ होता है . देवशक्ति के ऊर्जा शक्ति को अपने व्यक्तित्व और अस्तित्व में धारण करना ही मन्त्र सिद्धि कहलाता है.

मन्त्र सिद्धि कैसे हो ?

मात्र मन्त्रों को रटने और दोहराने भर से मन्त्र सिद्धि नहीं होती है . कई बार वर्षों से साधना करने और कई करोड़ मन्त्र जाप करने के बाद भी साधक को निराशा ही हाथ लगती है. और कई बार मन्त्र जाप का अत्यंत अल्प या आधा - अधूरा फल ही मिलता है। इस स्थिति के लिए मन्त्र नहीं बल्कि साधक ही जिम्मेदार होता है .

मन्त्र सिद्धि में चार तथ्य सम्मिश्रित रूप से काम करते है . इन चारों तथ्यों का जहाँ जितने अंश में समावेश होगा वहां उतने ही अनुपात में मन्त्र शक्ति का प्रतिफल , चमत्कार और सिद्धि दृष्टिगत होगी :

1 . ध्वनि विज्ञान के आधार पर विनिर्मित शब्द श्रृंखला का चयन और उसका विधिवत उच्चारण .
2 . साधक की संचित प्राणशक्ति और मानसिक एकाग्रता का संयुक्त समावेश .
3 . मन्त्र-जाप में प्रयुक्त होने वाली भौतिक उपकरणों की सूक्ष्म शक्ति .
4 . साधक की अपनी भावना, आस्था, श्रद्धा, विश्वास और उच्चस्तरीय लक्ष्य .

मन्त्र सिद्धि की सफलता का 3 /4 भाग इन्हीं चार तथ्यों पर आधारित है , विधि विधान को 1 /4 ही महत्त्व दिया गया है . इन दिनों आविश्वास , अन्यमनस्कता , उपेक्षा , उदासीनता अस्त-व्यस्त और मनमौजी ढंग के साथ साधक चिरकाल व्यतीत हो जाने और लम्बा कष्ट साध्य अनुष्ठान करने पर भी मन्त्र सिद्धि नही कर पाते हैं क्योंकि वे जीवन-साधना की उपेक्षा कर केवल विधि-विधान को ही सब कुछ मान बैठे हैं . ऐसे में सदा निराशा ही हाथ लगती है .

मन्त्र सिद्धि का विज्ञान

मन्त्र की एक प्रगट ध्वनि होती है जो वायु माध्यम में यात्रा करती है . दूसरी अप्रगट ध्वनियों होती हैं जो सूक्ष्म माध्यमों में यात्रा करती है . प्रथम अप्रगट ध्वनि सूक्ष्म प्राणशक्ति होती है जो ईथर माध्यम में यात्रा करती है और ईथर से भी सूक्ष्मतम अप्रगट ध्वनि भाव-शक्ति होती है जो आकाश माध्यम में यात्रा करती हैं .

वायु के कम्पन नष्ट हो जाते हैं लेकिन ईथर और आकाश तत्व के कंम्पन सदेव यथावत बने रहते हैं . वायु से ईथर और ईथर से आकाश माध्यम के परमाणु अधिक सूक्ष्म, सम्वेदनशील, शक्तिशाली और उत्तरोतर अधिक कम्प्पन वाले परमाणुओं से बने होते है. अतः ध्वनि तरंगों से तीव्र गति से उसकी प्राणशक्ति की तरंगें और प्राणशक्ति से भी तीव्र उसकी भावशक्ति की तरंगें चलती है .

ध्वनि की गति साधारणता बहुत धीमी होती है और साधरण अवस्था में यह 3 3 4 मीटर प्रति सेकंड की गति से ही चल पाती है . लेकिन रेडियो प्रसारण में एक छोटी सी आवाज़ [ साउंड वेव ] को इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव्स [ जिसकी गति 1लाख 8 6 हज़ार मिल प्रति सेकंड होती है ] के ऊपर सुपर इम्पोज [ modulation ]कर दिया जाता है जिससे वह आवाज़ पलक झपकते ही सारे संसार की परिक्रमा कर लेने जितनी शक्तिशाली बन जाती है .

इसी प्रकार मन्त्र साधना में उच्चारित किये गए शब्द ध्वनियों को प्राण और भाव की शक्तिशाली तरंगों के ऊपर सुपर इम्पोज कर दिया जाता है जिनसे मन्त्र की शब्द शक्ति असीम विद्युत शक्ति में परिवर्तित हो जाती है तीव्र गति से चलते हुए कुछ की क्षणों में देव - शक्ति से टकरा जाती है , फिर उस देव शक्ति के स्थूल और सूक्ष्म प्रभाव साधक में परिलक्षित होने लग जाते हैं . यही मन्त्र सिद्धि की अवस्था होती है .

भावशक्ति और प्राणशक्ति युक्त मन्त्र [ ध्वनि ] अनंत ब्रह्माण्ड के साथ साथ अंतर्चेतना को भी प्रभावित करने में पूर्ण सक्षम होते हैं .

मन्त्र सिद्धि के लक्षण

जब मंत्र ,साधक के भ्रूमध्य या आज्ञा -चक्र में अग्नि - अक्षरों में लिखा दिखाई दे, तो मंत्र-सिद्ध हुआ समझाना चाहिए.

जब बिना जाप किये साधक को लगे की मंत्र -जाप अनवरत उसके अन्दर स्वतः चल रहा हैं तो मंत्र की सिद्धि होनी अभिष्ट हैं.

साधक सदेव अपने इष्ट -देव की उपस्थिति अनुभव करे और उनके दिव्य - गुणों से अपने को भरा समझे तो मंत्र-सिद्ध हुआ जाने.

शुद्धता ,पवित्रता और चेतना का उर्ध्गमन का अनुभव करे,तो मंत्र-सिद्ध हुआ जानें .

मंत्र सिद्धि के पश्च्यात साधक की शारीरिक,मानसिक और अध्यात्मिक इच्छाओं की पूर्ति होनें लग जाती हैं.

मन्त्र शक्ति वह तालबद्ध, समयबद्ध,क्रमबद्ध, अनुशासन बद्ध और विधानबद्ध ध्वनि - विज्ञान है जो प्रकृति को , वस्तुओं को , परिस्थियों को , वातावरण को और ब्रह्माण्ड को प्रभावित रखने की पूर्ण क्षमता रखता है.

Geeta  jha

Thursday, July 11, 2013

Mystery: Why People With No Obvious Cardiac Risk Fall Victim to Heart Diseases

Raman did not smoke, his cholesterol levels were normal, he had no diabetes and he had none of the risk factors that conventional wisdom demanded for a heart attack. Despite it he suffered two heart attacks within the span of tree years.

Today there are answers at last to the mystery of why people with no obvious cardiac risks fall victim to heart disease.

ATHEROSCLEROSIS [narrowing of coronary arteries] the process starts when LDL [bad] cholesterol penetrates the wall of an artery. If all goes well HDL [good] cholesterol will reverse the process carrying cholesterol away from the artery for eventual disposal by the liver. But if LDL accumulates in the artery wall, it becomes a target for oxygen free radicals, which bombard cholesterol to turn it into oxidized LDL, much as free radicals turn fat rancid.

It's the oxidised cholesterol that gets atherosclerosis started. Now scientists have already identified inflammation and clot formation as the two basic processes that translate the initial effects of oxidized LDL Cholesrtol into the damage of a heart attack.

Now doctors have moved beyond cholesterol to identify new risk factors, many of which participate in inflammation or clotting. Below are some new risk factors responsible for heart ailments.


Homocystein and cholesterol both are natural substances that are present in many foods and are also synthesized by the body itself. In normal amounts, both are essential for health, but in high amounts they increase dramatically the risk of heart attack and stroke.
Cholesterol and homocystein are chemically distinct. Homocystein is not a fat but an amino acid.
It is one of the 20 nitrogen-rich compounds that are building block of all body proteins.
High level of homocystein accelerates the atherosclerosis in following ways:

  1. By producing toxic damage to the endothelial cells that line the inner surface of arteries.
  2. By increasing the activity of oxygen free radicals.
  3. By stimulating the enlargement of smooth muscles cells in the middle layer of arterial walls
  4. By accelerating the clotting process.

As with the cholesterol levels, healthy people have a wide range of homocystein levels. The normal range is 5-15 micromoles per litre, but below 10 are safest,. In general, the levels for men are about one point higher than for women.


Although atherosclerosis has many causes, infection is emerging as new risk factor.the leading candidate is Chlamydia Pneumonia. It is an unusually small bacterium which such a primitive metabolism that it can survive only by living within the cells of the people it infects. But once it gets inside those cells, it tends to linger, causing low grade chronic inflammation.

Many people with the infection have no symptoms at all; others develop the flu, pneumonia, bronchitis, sinusitis etc.

From the respiratory passage C. Pneumonia enters the blood, where they are taken up by macrophages, these macrophages enter arteries with early atherosclerotic damage. Once in the arterial wall, C pneumonia stimulates inflammation, adding to the damage and weakling the plaque so that it ruptures and triggers clot formation.

Dental infection

There is a direct connection between periodontal diseases and the severity of coronary atherosclerosis, the worse the dental disease the worse the heart disease.


It is in prostatitis, appendicitis and bronchitis. Inflammation can show up in any part of the body because it's the most basic response to the injury. Infection is the most common trigger, but inflammation can also be set in motion by allergy, immunological reaction and even by trauma.

In arteries, oxidized LDL cholesterol produces injury and the body responds with the inflammation.
Macrophages and other white cells are the first to answer the call, in turn they produce CYTOKIN, tiny protein that injure endothelial cells, stimulates smooth muscle cells and recruit still more macrophages to perpetuate the process.

The cytokines that causes such mischief in the artery wall also spill out into the bloodstream, travelling to other parts of the body.

Liver also responds to cytokines by producing proteins of its own, including C reactive protein and Fibrinogen.

An elevated level of C reactive protein and fibrinogen is a reliable indicator of cardiac risk.

Blood lipids

Elevated blood cholesterol levels predicted increased cardiac risk. High LDL cholesterol increases risk but high HDL cholesterol decreases risk.
The other two important risk factors are TRIGLYCERIDES and LIPOPROTEIN (a).

High triglycerides levels do increase the cardiac risk, at least in those people who also have low HDL cholesterol levels. High lipoproteins (a) also increase risk.


रेशम !!!!

अधिकांश लोग अपने उपयोग की और मनपसंद वस्तुओं के निर्माण में जीवों पर होने वाले अत्यचार की बात की तरफ ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं । जीवों पर अत्याचार का यह मतलब नहीं है की उन वस्तुओं का प्रयोग छोड़ दिया जाए वरन उनके स्थान पर दूसरी वस्तुओं का सूझबूझ से चयन किया जाये । अधिकतर संवेदनशील व्यक्ति उन्हीं वस्तुओं को पसंद करेंगें जिसके लिए जीव हत्या नही की गई हो ।

बहुत से लोग से लोग चमड़े के वस्त्र या जाकेट नहीं पहनते हैं क्योंकि वे जीवों की खाल उतार कर बनाये जाते हैं , लेकिन वही लोग धर्मिक कर्मकांड, पूजा-पाठ या अन्य शादी उत्सवों में रेशम के वस्त्रों को धड़ल्ले से पहनते हैं । यह बात कम ही लोगों को मालूम होती है की रेशमी वस्त्र उन्ही धागों से बना होता है जिन्हें रेशम के कीड़े पतंगे बनने से पहले आपनी रक्षा के लिए अपने चारों ओर आवरण या सुरक्षा -कवच के रूप में काम में लाते हैं । इनके पतंगे बनाने से पहले ही इन कोकून या कोया को जीवित उबाला जाता है ।

इस प्रकार रेशम के 1 5 कोकून उबाल कर 1 ग्राम रेशम पाया जाता है । या यह भी कह सकते हैं की 1 ग्राम रेशम के लिए लगभग 1 5 पतंगों की जान ली जाती है । इसी श्रृंखला में 1 0 0 ग्राम रेशम के लिए तक़रीबन डेढ़ हज़ार जीवों की हत्या उनके शैशव काल में ही कर दी जाती है ।

रेशम की एक साडी को तैयार करने में करीब पचास हज़ार ऐसे ही कोकून की जरुरत होती है । यानि एक साडी के लिए पूरे पचास हज़ार जीवों की हत्या की जाती है ।

रेशमी वस्त्र अपने चमक, कोमलता, रंग, शान और नफ़िसियत के लिए प्रसिद्द है । इन्हें धारण करना शानों शौकत की बात मानी जाती है । लेकिन हमें उसे बनाने के तरीकों को भी ध्यान में रखना चाहिए ।

रेशम के कीड़े का जीवन - वृत्त

रेशम उत्पादन केंद्र में पूर्ण विकसित नर और मादा पतंगों के मिलन की प्रक्रिया के बाद नर पतंगों को पकड़ कर बास्केट में डाल कर रेशम उत्पादन केन्द्रों के बाहर फैक दिया जाता है , जिसका उपयोग बाद में पशुओं को खिलाने के लिए किया जाता है ।

चार पाँच दिन के बाद अण्डों से निकले सूक्ष्म लार्वा या इल्ली शहतूत के पत्तों पर पलते हैं और उन्हीं पत्तों से अपना पोषण ग्रहण करते हैं । करीब एक महीने के बाद ये इल्लियाँ ..... केटरपिलर का रूप ले लेती हैं । ये कैटरपिलर अपने विकास के क्रम में पतंगा बनाने से पहले अपने मुंह से निकली लार के आवरण में अपने आप को लपेट लेते हैं । यह आवरण उनकी अन्य जीव- भक्षकों से रक्षा करता है लेकिन दुर्भाग्य से यही रक्षा कवच रेशम बनाने में उनकी हत्या का कारण बन जाता है ।

सामान्यता अपने रक्षा कवच को काट कर पतंगा बाहर निकलता है , बस इसी दौरान उसकी निर्ममता से हत्या कर दी जाती है । जब कोकून पूरी तरह से तैयार हो जाता है और उसके अन्दर का लार्वा अपने विकास के अंतिम चरण में होता है , रेशम निकालने की प्रक्रिया आरंभ हो जाती है ।

लार्वा के पूर्ण विकसित होने के छह सात दिन पहले ही उसे 7 0 से 9 0 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान के गर्म पानी में तीन चार घंटे के लिए डाल दिया जाता है ।

नन्हा लार्वा घबराता है सुकड़ता है और गर्मी की तपन से अपनी रक्षा के लिए बनाये गए अपने ही कोया में ही दम तोड़ देता है । इस यातना मय प्रक्रिया से एक जीव का रक्षा कवच कफ़न में बदल जाता है । इसके पश्चात उनमें से रेशम का धागा निकाला जाता है ।

यह निर्ममता यहीं समाप्त नही हो जाती है । रेशम केन्द्रों में विकसित की गई आधी इल्लियों को उबाल कर रेशम प्राप्त किया जाता है और बाँकी कि बची आधी को पूर्ण पतंगा होने तक विकसित किया किया जाता है ताकि उनसे आगे अंडे प्राप्त किये जा सके ।

अच्छी क्वालिटी का रेशम, प्राप्त करने के लिए इन पतंगों के पर काट दिए जाते हैं । नर और मादा के मिलन के बाद ही ऐसा किया जाता है । अंडे देने के बाद उन्हें मार दिया जाता है क्योंकि वे अपने जीवन काल में एक बार ही अंडे दें सकती हैं । रोगग्रस्त पतंगों की निर्ममता से पूंछ को काट कर माइक्रोस्कोप से उसकी जाँच की जाती |

इन मरे हुए पतंगों का उपयोग रेशम का तेल, पाउडर , शैम्पू ,साबुन और अन्य कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स में किया जाता है ताकि त्वचा और बालों को नम , सुन्दर और मुलायम बनाया जा सके ।

पर्यावरण असंतुलन

रेशम प्राप्ति का सवाल केवल नृशंस अत्याचार का नही है वरण पर्यवरण संतुलन पर भी इसका अत्यंत प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है । रेशम के पतंगें अनेक प्रकार के पौधों के परागण में काम आते हैं । आर्किड प्रजाति के लिए ये पतंगें बहुत महत्वपूर्ण हैं । ये पतंगे पौधों पर लगाने वाले आफिड नामक कीटों और फफूंद को नष्ट करते हैं । इसके साथ ये कीड़े खुद छिपकली, मकड़ी चमगादड़ इत्यदि का भोजन बनते हैं । रेशम के धागों के चक्कर में यह पूरा प्राकृतिक चक्र गड़बड़ा जाता है । अनेक जीवों का जीवन चक्र प्रभावित होता है । यह सब बातें पृथ्वी के पर्यावरण के संतुलन को बिगडती हैं ।

रेशम के अन्य विकल्प

गुजरात , महाराष्ट्र [पूना ] , असम में काफी सारे लोग कैस्टर के खेती करते हैं । कैस्टर के पौधों पर पालने वाले रेशम के कीड़ों को रेशम निकालने के लिए मारा नहीं जाता है । इसमें उन्हीं कोकून का इस्तमाल किया जात हैं जिनके लार्वा विकसित होकर उड़ गए होते हैं । यह प्रक्रिया श्रम साध्य है और इसमें अधिक मात्रा में कोयों की जरुरत पड़ती है , इसलिए अहिंसक रेशम [एनी सिल्क] अन्य रेशम के मुकाबले महंगा होता है ।

Salmalia Malabarica और Bombax Heptaphyllum पौधों की दो ऐसी प्रजातियाँ हैं जिनसे सिल्क - कॉटन प्राप्त किया जा सकता है , जिस प्रकार कपास के पौधों से कपास प्राप्त किया जाता है । plantain tree जैसे पौधों के फाइबर से भी रेशम प्राप्त किया जा सकता है , तमिलनाडु में कुछ समय पहले तक नार-पट्टू इसी फाइबर के रेशम का बनता था जिसका प्रयोग पूजा पाठ के लिए किया जाता था ।

जो जीवन का मूल्य समझते हैं , जो जीवों के प्रति दया का भाव रखते हैं वे रेशम का प्रयोग कम से कम करे और यदि करे भी तो एरी रेशम का प्रयोग करे । फिर चाहे इसकी चमक दमक जीवों की हत्या से बने रेशमी धागों से कम ही क्यों न हो ।
अब मर्जी आपकी .............


या ............ यह

या ............ यह

Geeta Jha

Thursday, July 4, 2013

ब्लेंक कॉल्स

फ़ोन की घंटीबजी थी हेलो !!!! ” हमने  जिज्ञासासे कहा  था! तब आपने कहाकी "आपके पापाघर पर हैं  ! मुझे उनसेबात करनी है" हमने   कहा " पापा तोऑफिस में हैं! आप कौन बोलरहे हैं ? " तबआपने शायद झेंपते हुएकहा था की" मैं RKK बोल रहाहूँ , आपके पापामुझे जानते हैं| आप गीता बोलरहीं है ? '' आपके पक्के बिहारी टोनकी थाह लेतेहुए मन हीमन RKK का फुलफॉर्म  समझेहुए अनजाने मेंहमने  भीचुटकी  लीऔर बनावटी हैरानीसे पूछा " आपमेरा नाम कैसेजानते हैं ? "

तब आपने भीबिंदास हँसते हुए कहाथा की " जबआप हमसे मिलेंगीतो समझ जायेंगीं"

हाँ तो मिस्टरRKK इस वार्तालाप से दोदिन पहले हीहमारे पापा आपकेपास JNU में आपसेहमारे रिश्ते कीबात करने गएथे औरआपके पूर्ण समर्पितबिहारी टोन औरअंदाज़ से हमपहले ही समझगए  थेकी फ़ोन कीघंटी आपने हीखड्काई है

मालूम आपहमसे कितने सालसीनियर थे ..............इसका उससमय हमारे लिएकोई अर्थ नहींथा क्योकि अधिकतरअरेंज्ड शादियों में उम्रका फासला अधिकही  होजाता है | जबहमारे पापा आपकेपास गए थेतो आप लाइफसाइंस में 5- 6 वर्षोंसे लगातार मैराथनPhd कर रखे थे

लेकिन उसी सालआपका सिविल सर्विसमें इंडियन रेवेनुसर्विसेज [ IRS ] कस्टम में सिलेक्शन होनाकाफी था कीसंपूर्ण  मैथिलबिहारी समाज केकुंवारी लड़कियों के पिताअपनी बेटियों केउद्धार के लिएआपके दरवाजे परअपनी-अपनी  दरखास्त लेकर आये शायद उससमय आपके दरवाजेपर लगी लाइनमें आपका रेट2 0 लाख चल रहाथा , और ताजुब्बहै उस समय उसे  देने वालों की भीकोई कमी नहींथी

हाँ तो हमनेकहा की आपकीयश कीर्ति सुनकर हमारे ईमानदारपिता भी उसीलाइन में अपनीबेटी की किस्मतअजमाने  केलिए लग गयेथे

ईमानदार पिता कीलाडली बेटी औरवह भी सांवले रंगकी .........यह दोबातें ही काफीथी की हमारीप्रस्थिति ब्राह्मण समाज मेंकाफी सोचनीय करने केलिए |  फिरभी हमारे  पापा कीदाद देनी होगीजो आप जैसेमॉडल सरीखे औरहाई प्रोफाइल लड़केको अपना भावीदामाद बनाने कासपना भी देखसके शायदहर लड़की केपिता की दिलीख्वाईश होती हैकी उनकी लड़कीहमेशा उससे बेहतरलड़के से विवाहीजाए

पहली नज़र मेंही पापा आपसेइम्प्रेस हो गएथे , उन्होंने हमारीब्लैक एंड वाइटफोटो आपको दिखाईथी , ब्लैक एंडवाइट फोटो  देख  कर ही आपसमझ गए थेकी हमारा  रंग खांटीसांवला है  ....लेकिनआपने भी शालीनतासे कहा था ....... अंकल जी !!  आजकल तो कलरफोटो दिखाई जातीहै और आपब्लैक एंड वाइटफोटो लेकर आयेहैं ? ”

पापा हमारे गहरे रंगके चलते पहलीबार में हीरिजेक्ट नहीं होनाचाहते थे आपने हमारी वहवाली फोटो औरबायोडाटा रख लियाथा और हमारेपापा को कोकह दिया कीआप इस रिश्तेपर विचार करअपने परिवार वालोंसे बात करेंगें यह टरकानेका एक सभ्य तरीकाथा फिरआपने हमारे  लिए भीसिविल सर्विस कीतैयारी का एकनुक्सा भी बतादिया की .............हमेंतोते की तरहरटने और मुहजबानी याद करनेकी जगह तीनचार लोगों केसाथ बैठ करउनसे सहयोग लेतेहुए लिख लिखकर सभी विषयोंका अभ्यास करनाचाहिए और न्यूज़पेपर तो बिनानागा किये रोज़पढना चाहिए |

घर पर कर पापा नेकहा की आपदूरदर्शन के किसीसीरियल में आतेथे  और एकआध टेलीफिल्म भीकर चुके थे |  आपकीओमनी डायरेक्शनल क्षमताओंके हम कायलहो चुके थे फिर दोदिनों के बादआपका फ़ोन आया हम तोपहली बार मेंही आपकी आवाज़से आपको पहचानगए थे , लेकिनअनजान बनाने कीएक्टिंग करनी जरुरीहो गई थीआखिर एक सुसंस्कृतघर की बेटीजो  थे|  एकबार जो ब्लेंककॉल्स  आनेका सिलसिला चला तो जाने कबतक चलता रहा...और हम भीकसम खा करबैठे थे हीहम आपको पहचानेगें नहीं.

इन ब्लेंक कॉल्सके के चक्करमें कितना समयऔर कितनी घटनाएंबीत गई सबकुछ बदलता चला जारहा था | नहींबदला तो आपकारोज़ 4-5  बारब्लेंक कॉल करना और  हमारासभ्यता और शालीनतासे पुनः पुनःधीरे से  हेलो  बोलना ” ........फिरदोनों और सन्नटा | कभीआप फ़ोन डिसकनेक्टकरते थे और  कभीहम  |

जब दूसरी बारपापा आपके होस्टलगए थे थोआप शायद कहींबाहर गए हुएथे | आपके रूममेट ने कहाकी आप दोबार हमें  कहीं देखचुके हैं ! शायदकॉलेज में ? लेकिनआपके दोस्त नेवही  महानकाम किया जोअमिताभ बच्चन ने शोलेफिल्म में अपने दोस्तवीरू के लिएकिया था उसकीशादी की बातकरते समय  , आपके दोस्तने कहा कीयकीनन आप एकअच्छे इंसान हैंलेकिन आपका अफेयरआपके साथ पढ़नेवाली एक लड़कीके साथ चलरहा है जोएक सिन्धी हैऔर  शायददीपा नाम बतायाथा उसका  |

जो उस समय Phd करने जर्मनी गई हुई थी | फिर क्या था हम माज़रा समझ गए की आपने कुछ टाइम के लिए उसकी अनुपस्थि में हमें अपना टाइमपास बनाया हुआ था  | और फिर हमारी उन  पंजाबी सहेलियों ने हमारी अच्छी खबर ली जिनके दिल बेदर्द बिहारी लड़कों ने तोड़े हुए थे …….....सबने एक सुर में कहा .....खबरदार गीता  !!! जो कभी इस लड़के से शादी के बारे में सोचा भी तो | जो तेरे लिए अपनी गर्लफ्रेंड को छोड़ सकता है वह कल किसी तीसरी के लिए तुझे भी छोड़ देगा  | हम उन सबके जले भुने फूंके दिलों के   प्रैक्टिकल तर्कों के आगे नतमस्तक थे |

लेकिन आपका भीजबाब नही थाजो एक बिहारनऔर एक सिंधनके बीच पिसनेको को पूरीतरह से तैयारथे आपकेब्लेंक कॉल्स की आदतपड़ चुकी थी | धीरेधीरे आपका स्वाभावपता चलता गया| जब कभी आपबूथ से कॉल करतेथे तो हमेशाचुप्पी रहती थीक्योकि आप एकरूपए का सिक्काडाले बिना ..... हेलो......तो सुन हीसकते थे और कभी आपअपने परिचित याऔर जगह सेफ़ोन करते थेतो हमेशा एकही सवाल पूछतेथे ......ईस्ट वेस्टएयरलाइन ? ? ? और हमाराहमेशा एक हीएकनिष्ट और समर्पितजवाब होता था......सॉरी रॉंग नंबर!!!

मज़े की बाततो यह हैकी हजारों बारहमने आपके ईस्ट-वेस्ट एयरलाइन पर ..........सॉरीरॉंग नंबर बोलाहोगा  | लेकिनकसम खाई थीकी आपको कभी पहचानेगेंनही .......चाहे एकयुग ही क्यों बीत जाये!!

JNU के आपके दोस्तोंसे बाद मेंपता चला कीआपने IRS की जॉबज्वाइन ही नहीकी | एक बारआपका एडिटोरियल कॉलम में nuclear  रिएक्टरके ऊपर लिखाएक आर्टिकल पढ़ाथा  | शायद आपनेTOI में एडिटर की नौकरीकर ली थी |

लेकिन आपने कभीभी किसी अभद्रया असभ्य लहजे याभाषा का प्रयोगनही किया था |कालर ID लगवाना  बेकार थाक्योकि केवल हमही जानते थेकी सारे ब्लेंककाल्स आप हीखड्काते थे |

हाँ घर केदुसरे लोग कभीकभी इरिटेट  जरुर होजाते थे | लेकिनहमने भी एक सुसंस्कृत टाइमपासका किरदार बखूबीनिभाया था | आपहमसे बहुत सीनियरथे , टैलेंटेड थे, आपके सभी खूबियोंकी हम कद्रकरते थे ...हमनेकभी भी आपकोकडवे और झल्लानेवाले लहजे में जबाबनहीं दिया था | एकअनदेखा अनजान इंसान कोसमझना शुरू करदिया था | हमेंपता था कीआपका टैलेंट आपकोकभी भी एकदायरे  मेंबंधने नहीं देगा |

हमने हमेशा आपकी इज्जतही की थी.....लेकिन एक दिलीख्वाइश रह गईकी ....यदि आपकोपहचान कर बातकरते तो शरारतमें आपको ...देवघरका पंडा जरुरकहते ......

हमारी  नजरमें आप दीपाकी अमानत थे,  औरहम अपने संस्कारोंसे बंधे हुएथे |

शायद हमारी शादी कीखबर आपको लगगई थी |  शादी केपांच दिन पहलेआपका फोन आयाहमेशा हज़ारों बारकी तरह हमनेफिर ...... हेलो !! " कहा  ...इस आखिरी ब्लेंक कॉल में यह जानने की जिज्ञासा हुई की आपका यह अंतिम फ़ोन किसी बूथ से खड़क रहा है की किसी और जगह से , इसकी थाह लेने के लिए हमने .....फिरपहली बार कहा ......... "आपको किससेबात करनी है? ” तब आपने धीरेसे कहा थाकी ..... “बात तो हमेंआपसे ही करनीहै ” .....फिर वहीख़ामोशी ......और हमनेफ़ोन डिसकनेक्ट करदिया था ...यहीहमारी आखिरी बातथी |और आखिरी ब्लेंक  कॉल भी |

अभी दो सालपहले हमारी एकसहेली ने आपकाजिक्र किया |  मोबाइल के इसजमाने  मेंलैंडलाइन फ़ोन की  ब्लेंककॉल्स की यादोंसे एक मुस्कानहमारे चहरे परखिल गई ........ एकअनदेखे ......अनजाने  कोदेखने की बालसुलभलालसा हुई , जिसे हमहज़ार बार एकही आवाज़ परहेलो   ”और  रॉंगनंबर ” बोल चुकेथे ........ 

और हमने गूगलसर्च पर आपकानाम टाइप किया.......

फिर पहली बारआपकी फोटो देखी ....आपकेगोगल्स वाली हीरोटाइप टिपिकल बिहारीस्टाइल की सभीफोटो  देखकर बहुत हंसीआई ....और करियरतो आपका जलेबीकी तरह होगाही तरह यहतो हम शुरूसे जानते थे....TOI  केबाद आपने USA जाकरअपनी एक सॉफ्टवेयर कंपनी खोलीथी जिसकी दूसरीकंट्री में भीब्रांचे थी , औरसाथ ही साथआपने एक फिल्मप्रोडक्शन हाउस भीखोला हुआ है जिसमेंआप इंडिया कर फिल्में बनातेहैं ....... यानी आपने अपनेएकेडेमिक क्वालिफिकेशन और हॉबीका पूरा बैंडबजाया हुआ है 

दीपा तो पतानही आपके जीवनमें है यानही है लेकिनआपके व्यक्तित्व कायूनिक पना जरुरअभी तक कायमहै

चलो हम दोनोंने पढ़ा कुछऔर , किया कुछऔर अंत मेंबने कुछ और....लेकिन एक चीज़याददास्त में दोनोंकी  कॉम्मनहै ..........वे हज़ारब्लेंक कॉल्स !!!


गीता झा